फॉर मोर शॉट्स प्लीज| क्या माँगना चाहते हो ?



वैसे तो एक से एक घटिया वेब सीरीज से इन्टरनेट भर गया है | लेकिन वो सब बाद में , फिलहाल बात करते है अमेज़न प्राइम पर आई नयी वेब सीरीज "फॉर मोर शॉट्स प्लीज" की | जैसा की ज्यादातर वेब सीरीज में होता है कि वो औरतो को केंद्र में रख कर लिखी जा रही है , या एक ऐसा किरदार होता है जिसके चारो और कहानी घुमती है | लेकिन यहाँ पर पूरी तरह से स्कसिसफुल अलग अलग प्रोफेशन की चार महिलाओ की कहानी है जिसमे अजीबो गरीब तरह के दृश्य देखने को मिलते है |

ज्यादातर वेबसीरीज , औरतों की कामुकता को बिस्तर पर सुलगाने को कह रही है | फॉर मोर शॉट्स प्लीज में चार औरते है एक डिवोर्स माँ है , एक पत्रकार , एक फिटनेस ट्रेनर , और एक कुछ भी नहीं है | लेकिन शादी से पहले सब कुछ करना चाहती है | चारो को एक "ट्रक" बार में जाकर शराब पीना अच्छा लगता है , चारो को एक दुसरे से हर बात शेयर करना पसंद| लेकिन कमाल की बात है कि चारो की सेक्स लाइफ भी ठप ही पड़ी है | इसलिए चारो को अपनी वेजाइना के बारे में बात करना पसंद है |क्यूँ है , ये मालुम नहीं है |

एक दृश्य में चारो औरते अपनी वेजाइना के बारे में बात कर रही होती है , जिसमे पता चलता है डाइवोर्स माँ ने पिछले चार साल से सेक्स नहीं किया है उसमे उसकी मित्र कहती है इसमें तो "जाले" लग गए होंगे | वहीँ अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए वो वाइब्रेटर की मदद लेने को कहती है | 
एक पत्रकार , जिसकी भी सेक्स लाइफ नही है वो एक पुरुष ग्य्नाकोलोगिस्ट के पास जाती रहती है क्यूंकि वो उसे पसंद भी करती है इसके अलावा उसे पसंद है जब वो उसकी वेजाइना को चेक करता है |
एक फिटनेस ट्रेनर , एक लेस्बियन है | हट्टी कट्टी डोलो शोलो वाली , पंजाब से भागकर मुंबई आ गयी क्यूंकि उसे लड़कियाँ पसंद है और शादी नहीं करना चाहती |
एक पक्की हुई उम्र की लड़की जिसकी माँ शादी के पीछे पड़ी है वो भी शादी से पहले सेक्स करने पर अडी है |
वेब सीरीज में कुछ कॉमन करैक्टर देखने को मिल जायेंगे , जो आपको ये जबदस्ती एहसास दिलाने का काम कर रहे है कि महिला और पुरुष के बीच पनपने वाले सम्बन्ध से अलग भी कोई सम्बन्ध है जो बिन पानी मछली के जैसे फडफडा रहा है |

इन चारो औरतो को शराब और सेक्स की पराकाष्टा को पार करना है | अपनी लाइफ की पर्सनल दिक्कतों में वो कैसे इसे पार करती है या ठोकर खा कर वापस लौट आती है यही इस वेब सीरीज की कहानी है |


हालंकि आज कल जितनी भी वेब सीरीज है उनमे कुछ बात आम है , जैसे लम्बे लम्बे सेक्स दृश्य और लम्बी लम्बी उतेजना से भरीआवाजे , ना जाने कौन सी दबीआवाज़ को उठाने की कोशिश कर रही है लेकिन इस वेब सीरीज , जो की चार महिला किरदारों के इर्दगिर्द घुमती है, पहले सेक्स लाइफ में नए आयामों को छूने की कोशिश करती है फिर अचानक ही ये वेब सीरीज इन चारो किरदारों को वापस अपनी जिंदगी में लौट जाने को कहती है | शादी में डाइवोर्स के बाद , अपने इंटर्न के साथ सम्बन्ध , कब तक ग्य्नाक्लोगिस्ट, लेस्बियन प्यार और करियर और सोसाइटी , खाली प्लेट में पेस्ट्री की सजी , ये चारो महिला किरदार अपनी आव़ाज तो उठाते है लेकिन जिस ज़िम्मेदारी को छोड़ कर ये सब करने निकले थे उसे वापस नहीं पा पाते , जिमेदारी और इच्छाओ के बीच में हम कितने तरह के किरदार निभाते है | जब वो किरदार सोसाइटी के सामने आते है तो पता चलता है कि कौन हमारे साथ है , कौन जिम्मेदार , कौम जिम्मेदारी ले सकता है ? हम कितने सही थे या है | कुछ इसी तरह के सवाल ये वेब सीरीज हमारे सामने छोड़ जाती है |


 वेब सीरीज का अंत कुछ ऐसे होता है |

  1. डाइवोर्स माँ ,दारु पीकर गाड़ी चला रही  होती है ,पुलिस पकड़ लेती है ,वो बिलकुल उसी तरह की जी रही होती है जैसे उसका पति जी रहा था जब उसने उसे डाइवोर्स दिया था 
  2. पत्रकार ,एक और नया खुलासा करती है , उसके बाद उसे एहसास होता है कि लोगो को दुसरो के बिस्तर में झाकने में बड़ा मजा आता है 
  3. क्यंकि वो बिस्तर उसकी लेस्बियन फ्रेंड का होता है , उसकी साथी प्यार और करियर में करियर चुनती है 
  4. एक लड़की जिसे शादी से पहले बहुत कुछ करना था , जिसकी तलाश उसे वेब कैम तक ले जाती है | जिसकी खिड़की उसके मंगेतर के अंकल के लैपटॉप में खुलती है ||

बस इतना कहूँगा | नो मोर शॉट्स प्लीज



Comments

Popular posts from this blog

कहती है मुझसे डर लगता है ?

कितनी लेयर चढ़ती है किसी को पेंट करने में | डिजिटल अंगूर |Digital Grapes Painting

१५ अगस्त पर कुछ नया काम चाहते है बैंक कर्मचारी