अभिनन्दन का अभिनन्दन और वीर ज़ारा -पार्ट 2

भारत-पाकिस्तान को टीवी के आईने से देखे तो वो कुत्ते बिल्ली जैसे है | हम ज्यादातर दोनों मुल्को को केवल टीवी के जरिये ही देखते और समझते है | हाल ही के दिनों में जो टीवी पर बवाल कटा है , वो केवल एक बानगी भर है | किस्मत और तकनीक का कमाल ही कहा जा सकता है कि कुछ घंटो के अन्दर ही भारत का एक वीर सैनिक सकुशल अपने घर आ गया है |सरकार को मैं कभी किसी भी तरह का क्रेडिट नहीं देता ,क्यूंकि अपने नागरिको के लिए एक ईमानदार कोशिश करना उसका फ़र्ज़ है,यदि क्रेडिट की बात होगी तो लोग उसे खुद देंगे |
  • विंग कमांडर अभिनन्दन की रिहाई और उनके जीवन को एक नया सवेरा दिखाने में सोशल मीडिया का बड़ा रोल है | भारत ने काफी देर में ये माना की उनका कमांडर उनके कब्जे में है | जबकि पाकिस्तान उनकी विडियो भी जारी कर चूका था |
  • ये एक विडियो उनके लिए संजीविनी से कम नहीं है | जिसके जरिये भारत को पता चला कि उनका कमांडर कहाँ है और कैसा है ? नहीं तो भारत के लिए पता लगाना सालो का खेल हो जाता कि सर अभिनन्दन कहाँ और कैसे है ?
  • लोगो ने सरकार के इस कदम को सराहा , और पिछले हालातो और सरकार के रवियो को जमकर कोसा , कुछ ने पाईलेट कालिया , और नचिकेता को याद किया कि पाकिस्तान ने उनके साथ क्या किया ?
  • लेकिन उस समय की सरकार के सामने केवल उन लोगो को वापस लाना ही एक मात्र उदेश्य नही था , सबसे बड़ी कठिनाई थी अपने सैनिको को जिन्दा साबित करना , वो पाकिस्तान की किस जेल में है ये पता लगाना ?  जिसमे सालो का समय लगा , जिसमे हमने अपने सैनिक खोये है |
  • इसमें कोई बड़ी बात नही है क्यूंकि सभी देशो में जैसे हालात और कानून है सभी के साथ होता है , इसके लिए सिर्फ हम ही जिम्मेदार है | आप सोचकर देखिये अगर आपके हत्थे कोई दुसरे देश का जासूस लग जाए तो आपका व्यवहार उसके साथ कैसा होगा ? इस तरह का दुर्व्यवहार बोया भी हमने ही है तो काटने इसे कोई और नहीं आएगा ?
  • सरकार इतने फ़ास्ट एक्शन में इसलिए थी क्यूंकि उसे मालुम था कि सर अभिनन्दन पाकिस्तान में है , जिन्दा है | और ये दोनों देशो के लिए अच्छी बात हुई कि कुछ सोशल मीडिया के कीड़ो ने विडियो बना के सोशल मीडिया पर डाला , नहीं तो तस्वीर दूसरी ही होतीऔर  सरकार का रिएक्शन भी दूसरा ही होता|
  • वर्तमान सरकार का कैप्टेन कालिया के बारे में  क्या रविया है उसको आप नीचे के स्क्रीनशॉट में देख सकते है |

गौरतलब है कि कप्तान कालिया ने पाकिस्तान की जेल में अपनी जान गवाई, जब उनकी डेड बॉडी मिली तो कई तरह की यातनाओ की गवाह थी | तत्तकालीन वाजपई सरकार हो या मनमोहन सरकार हो , या अब मोदी सरकार हो , कोई भी परिवार की माँग को सुनना नहीं चाहता | परिवार ने सुप्रीम कोर्ट में अपील करी कि सरकार पाकिस्तान के इस कृत्य को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में लेकर जाये | लेकिन मोदी सरकार ने ये कह कर अपना रुख साफ़ कर दिया कि अब ये व्यवहारिक नहीं है | टेक्नोलॉजी का बड़ा योगदान रहा पिछले कुछ दिनों में , जिसने ऐसा माहौल बनाया जिसे सरकार तेज निर्णय ले सकी | स्क्रीन शॉट की खबर

वीर ज़ारा -पार्ट 2

सोशल मीडिया पहले सिर्फ बैकेति काटने के काम आता था | दुसरे देशो के लोगो से चैटिंग करना एक आम बात आज भी है लेकिन ऐसे विरले कम ही होंगे जो सोशल मीडिया की प्रोफाइल से प्यार कर उसे पाने निकल जात है | हाल ही के दिनों में ऐसा ही शख्स पाकिस्तान से रिहा होकर वापस आया है |नाम हामिद अंसारी , जिसे एक फेसबुक प्रोफाइल वाली लड़की से प्यार हुआ ,वो उसे बताती थी कि उसके परिवार वाले मेरी शादी जबरदस्ती कर देंगे और वो उसे पाने के लिए पाकिस्तान के लिए निकल पड़ा | उसे वीजा नहीं मिला तो वो अफगानिस्तान के रास्ते पाकिस्तान में घुस गया | जहाँ उसे , पाकिस्तान ने पकड़ के जेल में डाल दिया | ये सब घटा २०१२ में और अब २०१९ में पाकिस्तान से वापस अपने घर आया है | आप कहेंगे ये क्या है ? लेकिन इस शक्स ने भी वही यातनाये झेली है जो एक पकड़ा गया जासूस या गैर मुल्क का आदमी झेलता है | लेकिन कमाल की बात ये है सरकारों के ऐसे छोटे छोटे कदमो को मीडिया कवर नही करता है शायद इसमें देशभक्ति कम, प्यार का तुचियापा ज्यादा लगता है |  Complete Video


Comments

Popular posts from this blog

विपशना का मेरा अनुभव अंग्रेजी में |RePost

लैला | क्या होगा अगर अचानक ......

१५ अगस्त पर कुछ नया काम चाहते है बैंक कर्मचारी